दिल्ली के प्राइवेट स्कूलों से जुड़ी अहम खबर

नई दिल्ली। क्या आपके बच्चे से मनमानी फीस वसूली जा रही है। हर साल फीस बढ़ाकर आप पर भारी आर्थिक बोझ डाला जा रहा है लेकिन आप मजबूर हैं क्योंकि एक तो आप हर साल स्कूल नहीं बदल सकते और दूसरे हर स्कूल में फीस की यही कहानी है। अब दिल्ली 544 स्कूलों पर गाज गिरने वाली है और बड़ी हुई फीस न केवल वापस पा सकते हैं बल्कि आगे के लिए निश्चिंत रह सकते हैं।

दरअसल दिल्ली सरकार ने 1108 प्राइवेट स्कूलों की जानकारी जुटाई थी जिन्होंने वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के नाम पर बच्चों से मनमानी फीस वसूल की थी। दिल्ली एनसीआर में बढ़ती फीस बड़ी चिंता का विषय है और इसके लिए जस्टिस अनिल देव सिंह कमेटी का गठन किया गया था। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली सरकार निजी स्कूलों के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करना चाहती लेकिन उन्हें जस्टिस अनिल देव सिंह की कमेटी के प्रस्ताव मानने होंगे जो नहीं मानेंगे उन पर दिल्ली सरकार कार्रवाई करेगी लेकिन स्कूलों पर कोई असर नहीं पड़ा।

कुल 1108 निजी स्कूलों से 544 स्कूल ऐसे निकले जिन्होंने अंधाधुंध फीस बढ़ा दी और जब सरकार ने इन स्कूलों को फीस वापस लेने के लिए कहा तो स्कूलों ने दिल्ली सरकार के नोटिस पर कोई ध्यान नहीं दिया। इसके बाद दिल्ली सरकार के शिक्षा मंत्री मनीष सिसौदिया ने इन स्कूलों को टेकओवर करने की अनुमति मांगी। एलजी अनिल बैजल ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है और अब दिल्ली सरकार इन स्कूलों पर कड़ी कार्रवाई कर सकती है।

दिल्ली सरकार का मानना है कि जब इन स्कूलों को सस्ते दाम पर भूखंड दिया जाता है और स्कूल अभिभावकों के साथ मनमानी कर रहे हैं। जिन स्कूलों के नाम इस सूची में हैं उनमें डीपीएस, स्प्रिंग डेल, संस्कृति स्कूल और एमिटी के साथ ही माडर्न स्कूल भी शामिल हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *