दिल्ली में ब्लू व्हेल गेम कहां कहां खेला जा रहा है?

नई दिल्ली। जिसकी आशंका थी, वही हो गया। केंद्र सरकार ने भले ही blu whale game पर रोक लगा दी हो, दिल्ली पुलिस भले ही इसकी पड़ताल में जुटी हो, दिल्ली हाईकोर्ट भले ही इस गेम को लेकर चिंता व्यक्त कर रहा हो, पर जो खेल रहे हैं उनको कोई नहीं देख पा रहा। हैरानी और दुखद है कि दिल्ली के अशोक विहार में एक छात्र कुश ने चौथी मंजिल से कूदकर जान देने की कोशिश की है और वो सर गंगा राम अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रहा है। ये 11 वीं का छात्र है और बताया जा रहा है कि छात्र ब्लू व्हेल गेम खेलता था।

जिस जगह बच्चे ने खुदकुशी की कोशिश की है वहां मौके पर चप्पल, चश्मा और मोबाइल मिला है। पुलिस अभी इस मामले पर कुछ भी साफ नहीं कर रही है लेकिन जिस तरह से उस बच्चे ने जान देने की कोशिश की है, उससे संदेह के घेरे में ब्लू व्हेल गेम ही है। इधर दिल्ली पुलिस जांच पड़ताल कर रही है और उसका कहना है कि वो इस गेम की तह में जाएगी। वो देखेगी कि किस तरह ब्लू व्हेल गेम बच्चों को उकसाता है और ये गेम कोई भी नहीं खेल सकता।

इसे ग्रुप एडमिन की अनुमति से ही खेला जा सकता है, इसलिए दिल्ली पुलिस इस गेम में घुसना चाहती है। दिल्ली पुलिस ये भी कह रही है कि बच्चे की खुदकुशी की कोशिश की वजह डिप्रेशन हो सकती है लेकिन सवाल ये है कि बच्चे को डिप्रेशन किस कारण से हुआ। दिल्ली पुलिस अब उन सोशल मीडिया को भी खंगाल रही है जहां इस गेम के खेले जाने की आशंका है।

इस गेम को बीच में छोड़ने पर बच्चों को धमकियां मिलती हैं और परिवार को भी जान से मारने की चेतावनी दी जाती है। सीधे सीधे लोगों की जिंदगी से खेल रहा ये गेम खतरनाक है और जो बच्चे स्मार्ट फोन यूज कर रहे हैं उनके माता पिता के लिए चिंता की बात है। सबसे पहले लोगों को ये देखना होगा कि आपका बच्चा किन सोशल मीडिया पर है और वहां किस तरह रिएक्ट कर रहा है। ब्लू व्हेल गेम से पता चलता है कि स्मार्ट फोन के जरिए आपके बच्चे की जिंदगी को किस तरह अंधेरे में धकेला जा सकता है और आपको पता नहीं चलता।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *