स्मॉग से कैसे बचें 10 Tips

नई दिल्ली।  स्मॉग के चलते लोगों को आंखों में जलन और सिर दर्द जैसी शिकायतें होने लगी हैं सबसे  ज्यादा अस्थमा रोगियों के लिए खतरनाक होता है। स्मॉग के घातक परिणामों पर अंकुश लगाने के प्रयास तो किए जा रहे हैं लेकिन अगर थोड़ी सावधानी बरती जाए तो स्मॉग से होने वाली बमारी से बचा जा सकता है।

  • खान-पान: बढ़ते स्मॉग को देखते हुए खाने में कुछ चीजों को शामिल करना बेहतर साबित हो सकता है। गुड़, शहद, काली मिर्च, लहसुन का रोज खाने में इस्तेमाल करने से स्मॉग के कारण होने वाली बीमारियों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।
    • मास्क:स्मॉग से सबसे ज्यादा दिक्कत अस्थमा रोगियों को होती है। ऐसे समय में बाहर कम से कम निकलने में ही समझदारी है। इसके बावजूद अगर बाहर निकलना ही पड़े तो मास्क का इस्तेमाल बेहद जरूरी हो जाता है। मास्क दूषित हवाओं को शरीर में प्रवेश करने से रोकता है।
  • पौधे: घर को बाहर की दूषित हवा से बचाने के लिए जेड, स्पाइडर जैसे पौधे लगाने चाहिए। इस तरह के पौधे हवा को साफ करने में मददगार साबित होते हैं। वैसे भी अगर घर में पौधे लगाए जाएं तो हवा को साफ करने में मदद मिलती है।
  • परिवहन: स्मॉग को खत्म करने के लिए बेहद जरूरी है कि कम से कम वाहनों का इस्तेमाल। ऐसे में हफ्ते में कम से कम दो बार अपने वाहन को छोड़कर बस, रिक्शा या फिर मेट्रो का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • वाहन सर्विसिंग: वाहनों की समय-समय पर सर्विसिंग न होने से उनमें से धुंआ निकलने लगता है जो पर्यावरण के लिए बेहद नुकसानदेह साबित होता है। ऐसे में वाहनों की समय-समय पर सर्विसिंग कराएं और अगर कोई वाहन ज्यादा धुंआ देता दिखाई दे तो इसकी जानकारी ट्रैफिक पुलिस अधिकारियों को भी दें।
  • कैसे बचें: खांसी, जुकाम या फेफड़ों में इन्फेक्शन से राहत पाने के लिए गुड़ की चाय पीने से भी कई फायदे होंगे। ठंड के दिनों में गुड़, अदरक और तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीना अच्छा रहता है। अस्थमा के मरीजों को शहद वाले पानी से भाप लेने से जल्द राहत मिलती है। इसके अलावा दिन में तीन बार एक गिलास पानी के साथ शहद मिलाकर पीने से बीमारी से राहत मिलती है।

  • बिजली के उपकरण: स्मॉग से बचने के लिए घरों के अंदर भट्टी या फिर आग जलाने से बचना चाहिए। लकड़ी और कोयले के जलने से धुंआ निकलता है जो प्रदूषण को स्मॉग में तब्दील कर देता है। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा बिजली से चलने वाले उपकरणों का प्रयोग करना बेहतर होगा।
  • कूड़ा-करकट: अक्सर घर से निकलने वाले कूड़े के ढेर को लोग जला देते हैं। कूड़े में प्लास्टिक और लकड़ी होने पर धुंआ निकलने लगता है। ऐसे में घर से निकले कूड़े को फेंकने के बजाय रिसाइकल करने की कोशिश करें। कूड़ों से बनी खाद से न केवल पर्यावरण को स्वच्छ रखती है बल्की पेड़ों के लिए बेहतर साबित होती है।
  • व्यायाम: सर्दियों के मौसम में लोग व्यायाम के प्रति ज्यादा सजग हो जाते हैं। ऐसे में अगर आप व्यायाम के लिए बाहर जाने का प्लान कर रहे हैं तो कोशिश करें कि सूरज निकलने से पहले व्यायाम खत्म कर लें। दरअसल सूर्य की किरणों के साथ स्मॉग और भी ज्यादा खतरनाक हो जाता है। हो सके तो घर के अंदर ही व्यायाम करने की काशिश करें।
  • न निकले घर से: अगर बहुत जरूरी काम ना हो तो बाहर जाने से थोड़ा बचें। या अगर जाना जरूरी भी है तो मास्क पहने बिना ना निकलें।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *