जूनियर ओलंपिक्स में मेडल जीतना है बच्चों का सपना

नई दिल्ली। दिल्ली कैंट से सटे नांगल की विजय स्पोर्ट की दुकान इन दिनों बच्चों की भीड़ से पटी पड़ी है।  माँ बाप और बच्चे जूनियर ओलंपिक्स की तैयारी के लिए एथलेटिक शूज और बाकी सामान लेने में जुटे हैं।  यहाँ तक कि अभिभावकों ने प्राइवेट कोचिंग भी शुरू करा दी है।  गीता ने अपने बेटे केशव कुमार के लिए स्पाइक्स खरीदे हैं और रोज सुबह 5 बजे उठाकर उसे दौड़ लगाने भेजती हैं।  गीता का कहना है कि कम से कम ऐसे इवेंट्स से बच्चों में खेल के प्रति जागरूकता बढ़ती है।  वो फिट रहते हैं और एक प्लेयर की तरह जीवन जीते हैं नहीं तो टीवी से ही चिपके रहते हैं।  केशव भी जूनियर ओलंपिक्स में  एक मैडल लाने की अब कोशिश कर रहा है।

ठीक उसी तरह से बैंकर रवि भंडारी के बच्चे रवि और आर्यन भंडारी खुद को जूनियर ओलंपिक्स से जोड़कर देख रहे हैं।  दोनों भाई शानदार फुटबॉलर हैं लेकिन इसके साथ साथ वो अपना हुनर एथेलेटिक्स की दुनिया में भी आजमाना चाहते हैं।  दोनों स्कूल जाने से पहले और स्कूल से आने के बाद डीडीए स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स जाकर ट्रैक पर दौड़ लगा रहे हैं।  इन्ही की तर्ज पर 6000 दिल्ली के बच्चे खुद को एक एथलीट के तौर पर मेहनत कर रहे हैं।

जूनियर ओलंपिक्स के सीईओ सतिंदर तंवर का कहना है कि सरक़ार अपनी तरफ से बहुत कोशिश कर रही है।  जोनल इवेंट्स होते हैं और साथ ही साथ स्टेट और नेशनल प्रतियोगिताएं भी होतीं हैं लेकिन कोई ऐसा प्लेटफार्म नहीं है जहाँ शहर के बच्चे आकर सिर्फ ओलंपिक्स का सपना देखें।  वहीँ दिल्ली क्रिकेट के गुरु द्रोण कहे जाने वाले अजय वर्मा का कहना है कि अभी तक गांव के बच्चों से अपेक्षा की जाती थी कि वो ही नेशनल लेवल और इंटरनेशनल लेवल में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।  अब जूनियर ओलंपिक्स की वजह से शहर के बच्चे भी एथलीट निकल सकेंगे।  वहीँ फिटनेस गुरु पंकज गौतम का कहना है कि आज की हालत में बच्चे कमजोर हो रहे हैं क्योंकि अपार्टमेंट लाइफ ने उनको एक कमरे में कैद कर दिया है।  जरुरत है उन्हें वहां से निकालकर फील्ड तक लाने की।  इससे उनका स्टैमिना, फिटनेस बढ़ेगी।

जूनियर ओलंपिक्स इस बार त्यागराज स्टेडियम में आयाजित हो रहा है।  30 जनवरी से लेकर 2 फरवरी 2018 को दिल्ली के करीब 50 स्कूल भाग लेंगे जिनमे 6000 बच्चे अलग अलग इवेंट्स में कम्पीट करेंगे।  इंडियन क्रिकेटर वीरेंदर सेहवाग जूनियर ओलंपिक्स के ब्रांड एम्बेसडर है।  इनके अलावा  कई और खिलाडी तीन दिन तक बच्चों का हौंसला बढ़ाएंगे जिनमें आईपीएल प्लेयर वैभव रावल, रणजी टीम की फीमेल क्रिकेटर्स भी शामिल हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *