गुरमेहर की पोस्ट से शुरु हुआ विवाद, गौतम ने सहवाग को दिया करारा जवाब!

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय की स्टूडेंट गुरमेहर कौर के पोस्ट पर पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग की चुटकी वाले ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर विवाद शुरू हो गया जो थमने का नाम नहीं ले रहा। सहवाग ने मंगलवार को कुछ ट्वीट्स करके अपना पक्ष रखा है। वहीं, गुरमेहर के समर्थन में क्रिकेटर गौतम गंभीर भी उतर आए हैं। उन्होंने एक ट्वीट करके गुरमेहर के लिए समर्थन जाहिर किया है। गंभीर ने कहा कि हर किसी को अपनी बात रखने का हक है और मिलकर उसका मजाक उड़ाया जाना घिनौना है।

आपको बता दें कि गंभीर के ट्वीट के साथ एक विडियो है। विडियो में संदेश है, ‘इंडियन आर्मी के लिए मेरे मन में बहुत ज्यादा सम्मान है। देश के लिए उनकी सेवा अतुलनीय है। हालांकि, हाल की घटनाओं से मुझे निराशा हुई है। हम एक आजाद मुल्क में रहते हैं, जहां हर किसी को अपनी राय रखने का हक है। अगर एक लड़की, जिसने अपने पिता को खोया हो, शांति कायम होने की इच्छा के चलते जंग की विभीषिकाओं को लेकर पोस्ट करती है तो उसे ऐसा करने का हक है। यह दूसरे लोगों के लिए यह दिखाने का मौका नहीं बनना चाहिए कि वे कितने देशभक्त हैं या उन्हें मिलकर उसका मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। हर आम नागरिक की तरह उसे अपनी राय रखने का हक है। हर कोई इस बात से एकराय हो या न हो, लेकिन उसका मजाक उड़ाना घिनौना है।’

सहवाग के पक्ष में रेसलर योगेश्वर दत्त और बबीता फोगाट के आने के बाद गीतकार जावेद अख्तर ने उन्हें Hardly literate या कम पढ़ा लिखा बताकर निशाना साधा था। वहीं, अख्तर के इस बयान पर फिल्मकार मधुर भंडारकर ने अपना विरोध जताया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘सर, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का एजुकेशन की कमी से कोई रिश्ता नहीं है। मैं छठी फेल स्टूडेंट हूं, लेकिन मुझे मेरी राय रखने से कोई रोक नहीं सकता।’

वहीं, विवादों में रहने वाले कमाल राशिद खान (केआरके) के हमले के बाद रेसलर योगेश्वर दत्त ने जवाब दिया है। केआरके ने लिखा था, ‘आजकल फर्जी देशभक्ति दिखाकर सरकारी तलवे चाटने की होड़ सी मची हुई है। फिर वो चाहे दो कौड़ी के निर्देशक हों, हीरो हो या कोई और खिलाड़ी हो।’ कमाल पर प्रतिक्रिया देते हुए योगेश्वर ने लिखा, ‘लो भाई इन्होंने तो हमारी कीमत भी लगा दी। कल तक Hardly literate तो थे ही आज ‘दो कौड़ी’ के हो गए । कितना होता है दो कौड़ी? मैंने देखा नहीं।

योगेश्वर ने एक और ट्वीट करके जावेद अख्तर के बयान का जवाब देने की कोशिश की। दरअसल, सहवाग ने भी पूरे मामले पर ट्वीट करके अपनी सफाई दी है। उन्होंने कहा कि उनका ट्वीट मजाकिया था। उसका मकसद किसी को उसकी राय रखने के लिए धमकाना नहीं था। सहवाग ने लिखा, ‘उसे (गुरमेहर को) अपनी राय रखने का हक है। अगर उसे कोई भी रेप या हिंसा की धमकी देता है तो यह बेहद घटिया हरकत है। हर किसी को बेझिझक और बिना धमकी का सामना किए अपनी राय रखने का हक है। फिर चाहे वो गुरमेहर कौर हो या फिर फोगट बहनें।’

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *